दुमका गैंगरेप मामले में 16 आरोपी गिरफ्तार, पीड़िता को 3 लाख का मुआवजा

दुमका। आदिवासी युवती के साथ हुई गैंगरेप मामले में दुमका पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। गैंगरेप में शामिल सभी 17 नामजद आरोपियों में से 16 को गिरफ्तार कर लिया गया है। शुक्रवार को इन सभी आरोपियों को मीडिया के सामने लाते हुए एसपी मयुर पटेल ने कहा कि पीड़िता के बयान पर मामला दर्ज कर लिया गया है।

दुमका एसपी मयुर पटेल शुक्रवार को मुफस्सिल थाना में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि सभी आरोपी घटनास्थल के समीप के गांव के रहने वाले हैं। सभी ने अपना गुनाह कबुल कर लिया है। एक आरोपी अभी पुलिस की पकड़ से दूर है। सभी आरोपियों के पास से मोबाइल, एक स्कूटी और एक साधारण चाकू बरामद किया गया है। घटनास्थल से युवती के कपड़े, बाल का पिन व अन्य साक्ष्यों को जब्त कर जांच के लिए रांची फोरेंसिक लैब भेजा जाएगा।

पीड़िता से मिले उपायुक्त मुकेश कुमार
दुमका उपायुक्त मुकेश कुमार पीड़िता को देखने शुक्रवार को सदर अस्पताल पहुंचे। पीड़िता से मिलने के बाद उन्होंने कहा कि पीड़िता के इलाज में कोई कसर नहीं छोड़ी जाएगी। बेहतर से बेहतर चिकित्सा सुविधा उन्हें मुहैया कराया जाएगा। यदि आवश्यकता पड़ी तो उन्हें दुमका के बाहर भी इलाज कराया जाएगा। उपायुक्त ने कहा कि पीड़िता को 3 लाख रूपये की अंतरिम सहायता राशि दी जाएगी। साथ ही उनके पुनर्वास के लिए जिला प्रशासन हरसंभव मदद करेगी।

विश्वविद्यालय परिसर में होगा ओपी थाना
एसपी मयुर पटेल ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि युवती और उसके पुरूष मित्र की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। साथ ही विश्वविद्यालय परिसर में पुलिस आउट पोस्ट (ओपी) बनाने के लिए विश्वविद्यालय के माध्यम से सरकार को प्रस्ताव भेजा जाएगा। जब तक ओपी थाना नहीं खुलता है तब तक इस मार्ग में पुलिस की सघन पेट्रोलिंग की व्यवस्था की जाएगी।

क्या है मामला
एसपी मयुर पटेल ने बताया कि बुधवार की शाम को पीड़ित युवती अपने साथी के साथ क़ॉलेज परिसर दिग्घी की ओर से वापस घर लौट रही थी। करीब सात बजे शाम को शौच जाने के लिए लड़की बाइक से उतरी। उतर कर सड़क से आगे की ओर शौच के लिए गई तो वहां मौजूद पांच लड़कों ने लड़की को परेशान करना शुरू कर दिया। लड़कों ने कहा कि तुम गलत काम करने आई हो, पैसा निकालो। उनदोनों से लड़को ने पैसा और मोबाइल मांगने लगे। इस बात का विरोध करने पर दोनों के साथ मारपीट करने लगे। इस दौरान लड़कों ने अपने साथियों को फोन कर बुला लिया। 17 लड़कों ने दोनों को बंधक बनाकर लड़की के साथ दुष्कर्म किया। कुल सात लड़कों ने लड़की के साथ दुष्कर्म किया और बाकियों ने लड़की और उसके साथी के साथ मारपीट की और साक्ष्य मिटाने का प्रयास किया।

%d bloggers like this: