बोकारो की छात्रा ने की आत्महत्या की कोशिश

टी.भारती,जोहार खबर

 

बोकारो। गुरु गोविंद सिंह पब्लिक स्कूल की छात्रा ने शिक्षक की प्रताड़ना से तंग आकर शनिवार को आत्महत्या करने का प्रयास किया। स्कूल की बिल्डिंग के तीसरी मंजिल से कूद कर छात्रा ने जान देने की कोशिश की। छात्रा को छलांग लगाते हुए स्कूल के शिक्षक अनिल कुमार ने देख लिया जिससे उसकी जान बच गई। लेकिन छात्रा की जान बचाने के क्रम में शिक्षक खुद गंभीर रूप से घायल हो गए हैं।

छात्रा का नाम अर्चना है। छात्रा को मामूली चोटें आई है लेकिन शिक्षक को सिर और पीठ में चोट लगी है। छात्रा और शिक्षक को बोकारो के अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। डॉक्टर्स का कहना है कि शिक्षक की स्थिति काफी गंभीर है अगर इस प्रकार की स्थिति बनी रहती है तो सम्भवतः उन्हें इलाज के लिए रांची मेडिका अस्पताल रेफर किया जा सकता है।

घटना की सूचना मिलते ही सेक्टर-6 के थाना प्रभारी इन्द्रसेन चौधरी ने स्कूल पहुंच कर पूरे मामले की जानकारी लिया। उन्होंने छात्रा से भी बात की है। थाना प्रभारी ने विद्यालय प्रबंधन को बताया कि अर्चना ने अपने शिक्षिका पर प्रताड़ना का आरोप लगाया है। छात्रा के बयान के अनुसार जांच प्रक्रिया शुरू किया जाएगा ।

छात्रा के द्वारा दिये गये बयान के मुताबिक उसकी इतिहास की शिक्षिका सुनीता रानी उसे मेन्टल टॉर्चर किया करती थी। सभी के सामने बिना किसी गलती के अपमानित किया करती थीं। क्लास के दौरान कोई भी बदमाशी करता या कुछ गलत होता दिखता तो इसका इल्ज़ाम अर्चना पर लगता था। स्कूल की प्रोजेक्ट टास्क के दौरान उसकी एक सहपाठी का प्रोजेक्ट फट गया था, जिसका आरोप भी उसी पर लगाया गया था।

इन्हीं सब कारणों की वजह से वह गुस्से में आकर स्कूल की छत की ओर भागते हुए पहुचीं और वहां से कूद गई। अर्चना के पिता का कहना है कि उसकी टीचर द्वारा प्रताड़ित किये जाने पर अर्चना ने उन्हें सब बताया था। उन्होंने यह भी कहा कि स्कूल फी देने में हुई देरी के कारण भी अर्चना पर दबाव बनाया जाता था ।

इस मामले को विद्यालय प्रबंधन ने गंभीरता से लेते हुए एक जांच कमिटी के गठन किया है। जो इस पूरी घटना की जांच करेगी। जबकि आरोपी शिक्षका का कहना है कि उन्होंने किसी को प्रताड़ित नहीं किया है। स्कूल प्रबंधन ने सभी गार्जनों से आग्रह किया है कि वे भी बच्चों की बातों को गंभीरता से सुने। बच्चों की सभी छोटी-मोटी परेशानियों पर विशेष ध्यान दे।

%d bloggers like this: