“पूरे देश में पहचान रखता है दुमका का तसर”

 

दुमका। केंद्र सरकार के स्वास्थ्य एंव परिवार कल्याण मंत्रालय के संयुक्त सचिव अरूण सिंघल ने काठीकुंड प्रखंड स्थित तसर अग्रपरियोजना केंद्र का बुधवार को निरीक्षण किया। निरीक्षण के क्रम में उन्होंने तसर उत्पादन से संबंधित विभिन्न प्रक्रियाओं को देखा। इस दौरान उन्होंने काठीकुंड स्थित कस्तूरबा विद्यालय का भी निरीक्षण किया। इस अवसर पर उपायुक्त मुकेश कुमार ने संयुक्त सचिव अरूण सिंघल को दुमका जिला पर बने कॉफी टेबल बुक, मोमेंटो तथा दुमका जिला में बने मयूराक्षी सिल्क भेंट की।

अन्य खबरः साहेबगंज के दो युवकों का भारतीय व्हीलचेयर क्रिकेट टीम में हुआ चयन

संयुक्त सचिव को दुमका उपायुक्त मुकेश कुमार मयुराक्षी सिल्क भेंट करते हुए
पूरे देश में पहचान रखता है दुमका का तसर

संयुक्त सचिव अरूण सिंघल ने कहा कि तसर उत्पादन में दुमका जिला पूरे झारखंड के साथ-साथ देश भर में अपनी पहचान रखता है। दुमका जिला के तसर से निर्मित कपड़े बहुत जल्द देश-विदेशों के बाजार में भी दिखेंगे। तसर सिल्क की मांग पूरे भारत में है।



अन्य खबरः  चुंबन प्रतियोगिता पर पड़ा चौतरफा चाबुक

तसर में है असीम संभावना

लोगों से बातचीत करते हुए उन्होंने तसर उत्पादन की कई महत्वपूर्ण जानकारियाँ ली। उन्होंने कहा कि यहां तसर को लेकर विकास की अपार संभावनाएं हैं। यहां के लोगों को अधिक से अधिक तसर उत्पादन से जोड़ने की जरूरत है। लोगों में जागरूकता फैलाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि अगर दुमका जिला तसर उत्पादन में थोड़ी और मेहनत करें तो यह तसर उत्पादन दुमका जिला के लिए मील का पत्थर साबित होगा।

तसर केंद्र का निरीक्षण करते हुए संयुक्त सचिव अरूण सिंघल
कस्तूरबा विद्यालय का किया निरीक्षण

तसर केंद्र के बाद संयुक्त सचिव ने काठीकुंड स्थित कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने विद्यालय के छात्राओं से बातचीत की। उन्होंने बच्चों से कहा कि आप यहां से जब पढ़कर निकले तो लोग ना सिर्फ आपको अपने विद्यालय में बल्कि पूरे देश और पूरे राज्य में आपका नाम गर्व से लें। इस दौरान उन्होंने बच्चों को दी जाने वाली सुविधा, बच्चों के क्लास रूम लाइब्रेरी आदि का भी निरीक्षण किया।

काठीकुंड कस्तूरबा विद्यालय का निरीक्षण करते हुए संयुक्त सचिव
किसी को एक रूपये ना दें घूस

संयुक्त सचिव अरुण सिंघल ने कदमा पंचायत के लखनपुर गांव का भी भ्रमण किया। उन्होंने वहां के लोगों से बातचीत की एवं उनकी समस्याओं को भी जाना। उन्होंने लोगों से कहा कि सरकार के किसी भी योजनाओं में आप 1 रु0 भी किसी को ना दें। कोई व्यक्ति आप से पैसे मांगता है तो इसकी सूचना तुरंत जिला प्रशासन को दें। सरकार की योजना सिर्फ आपके लिए है और इसके लिए ही सरकार आपके बैंक खाते में योजना की पूरी राशि भेजता है। उन्होंने कहा कि किसी की बातों में ना आए सरकार की योजना का लाभ लें ।

गांव का दौरा करते हुए संयुक्त सचिव अरूण सिंघल
दुमका सदर अस्पताल का किया निरीक्षण

उन्होंने दुमका स्थित सदर अस्पताल का निरीक्षण किया एवं वहां की सुविधाओं के बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि सरकार के द्वारा दी जाने वाली सुविधा लोगों को मिले। उन्हें इन सुविधाओं से वंचित ना रखा जाए। उन्होंने कहा कि अगर किसी प्रकार की दिक्कत या परेशानी है तो इसकी सूचना जिला प्रशासन को दें। जिला प्रशासन तुरंत आपकी परेशानी को दूर करने का हर संभव प्रयास करेगा। उन्होंने कहा कि अस्पताल में आने वाले मरीजों को एक बेहतर सुविधा मिले ताकि सरकार के प्रति उनका विश्वास बना रहे। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार विभिन्न मापदंडों पर अपेक्षाकृत कम विकास जिन जिलों में हुआ है उसके लिए 2022 तक के कार्य योजना बना रही है। उन्होंने कहा कि जिले के लोगों के विचार जिले के समस्याओं को दूर करने में महत्वपूर्ण स्थान रखता है। विकास के दृष्टिकोण से लोगों की अपेक्षाओं को ध्यान में रखते हुए सभी की सहभागिता के साथ योजना बनाई जाएगी।

दुमका सदर अस्पताल का निरीक्षण करते हुए
दुमका में हो रहा विकास

उन्होंने कहा कि दुमका के उपायुक्त मुकेश कुमार के नेतृत्व में वास्तव में जिले में विकास का कार्य हो रहा है। उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधियों, समाज के वरिष्ठ नागरिकों आदि से बात कर जिले की जरूरत तथा 2022 तक के लक्ष्य का निर्धारण किया जाएगा और लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए किन किन संसाधनों की जरूरत है और वे संसाधन केंद्र तथा प्रदेश सरकार की योजनाओं से जिले को मिल रहे हैं या नहीं मिल रहे हैं इन पर बात की जाएगी। योजना में परिवर्तन की जरूरत हो या आवंटन की समस्या हो उन्हें भी दूर किया जाएगा।



मौके पर मौजूद अधिकारी

इस अवसर पर दुमका उपायुक्त मुकेश कुमार, उप विकास आयुक्त शशि रंजन, निदेशक आईटीडीए शिशिर कुमार सिन्हा, निदेशक एनईपी विनय कुमार सिंकू, निदेशक डीआरडीए दिलेश्वर महतो, अग्रपरियोजना पदाधिकारी सुधीर सिंह आदि उपस्थित थे।

 

%d bloggers like this: