जामताड़ा: सरना धर्म के लिए होगा आंदोलन

जामताड़ा। जामताड़ा प्रखंड के शहरडाल गांव में रविवार को सरना धर्म सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस धर्म सम्मेलन में अंतरराष्ट्रीय सरना धर्म परिषद के अध्यक्ष संजय पाहन, संताल परगना सरना धर्मगुरु लश्कर सोरेन और संताल परगना धर्म महासभा के महासचिव सुनील हेंब्रम शामिल हुए। इस सम्मेलन की अध्यक्षता माझी हड़ाम गोपाल हांसदा ने की।

धर्म सम्मेलन में लिया गया फैसला

सम्मेलन में निर्णय लिया गया कि आदिवासी समाज की धार्मिक पहचान, सरना धर्म कोड, राष्ट्रीय जनगणना कॉलम में शामिल करने के लिए आंदोलन चलाया जायेगा। इस सम्मेलन में मिशन दिल्ली के तहत एक करोड़ आदिवासियों द्वारा दिल्ली का घेराव करना, सरना धर्म कोड एवं पांचवीं अनुसूची अधिकार के लिए आंदोलन को सफल बनाने के प्रस्ताव पारित किए गए हैं।

सरना धर्म के रास्ते पर चले आदिवासी समाज- संजय पाहन

संजय पाहन ने कहा कि सरना धर्म सम्मेलन का मुख्य उद्देश्य समाज में सरना धर्म के प्रति आस्था का प्रचार-प्रसार करना है। इससे आदिवासी समाज धर्म के रास्ते पर चल सके एवं समाज में व्याप्त बुराईयों से लड़ सके।

%d bloggers like this: