कंपनी के लोगों से उलझे ग्रामीण, अधिकारियों को खदेड़ा

 

पाकुड़।   अमड़ापाड़ा स्थित पचुवाड़ा नॉर्थ कॉल ब्लॉक से मशीन निकालने गए बीजीआर कंपनी के अधिकारियों को ग्रामीणों ने मशीन निकालने से रोक दिया। मंगलवार को बीजीआर कंपनी के अधिकारी पचुवाड़ा नॉर्थ कॉल ब्लॉक से मशीने निकालने के लिए गए हुए थे। विशुनपुर और उसके आसपास के ग्रामीण कोयला खदान में जाते हुए अधिकारियों को देख कर जुटने लगे। बीजीआर के अधिकारी मशीन को ट्रक में लोड करवा कर उस खदान एरिया से निकलाने की कोशिश कर रहे थे। लाठी-डंडे और अन्य पारंपरिक हथियार के साथ ग्रामीण वहीं एकजुट हो गए थे। ग्रामीण खदान से किसी भी चीज के बाहर ले जाने का विरोध करने लगे। इस बात पर अधिकारियों और ग्रामीणों के बीच बहस शुरू हो गई। लेकिन ग्रामीण जब उग्र हो गए तो बीजीआर के अधिकारियों को मशीन छोड़कर वहां से भागना पड़ा।

ग्रामीणों की क्या है मांग

ग्रामीणों से बात करने पर उन्होंने कहा कि जब से खदान बंद हुआ है उन्हें मिलने वाली सारी सुविधाएं बंद कर दी गई है। ग्रामीणों के बकाये पैसे का भुगतान नहीं किया गया है। कंपनी जब तक ग्रामीणों को मिलने वाली सारी सुविधाएं बहाल नहीं करती है और बकाये पैसे का जब तक भुगतान नहीं करती है तब तक हम कोई भी समान खदान से नहीं ले जाने देंगे।

कौन है बीजीआर कंपनी

पिछले दो साल से बंद पड़े पचुवाड़ा नॉर्थ कॉल ब्लॉक में कोयला उत्खनन के लिए पश्चिम बंगाल पॉवर डेवलपमेंट कॉरपोरेशन द्वारा निकाली गई निविदा में बीजीआर माइंस एंड इंफ्रा प्राइवेट लिमिटेड को माइंस डेवलपर एंड ऑपरेटर (एमडीओ) की अनुमति प्राप्त हुई है। फिलहाल इस कॉल ब्लॉक को अभी माइंस लीज नहीं मिली है। बीजीआर कंपनी ने एमडीओ मिलने के साथ ही माइनिंग क्षेत्र में मशीन ले जाने लगे। प्रशासन को जब इस बात की भनक लगी तो प्रशासन ने इसे नियमों को उल्लघंन बताते हुए कंपनी को माइनिंग क्षेत्र से सभी मशीनों को हटाने का निर्देश दिया।

पाकुड़ जिला के सहायक खनन पदाधिकारी सुरेश शर्मा ने कहा कि बीजीआर कंपनी को खनन क्षेत्र से मशीनें हटाने का निर्देश दिया गया है। माइनिंग लीज प्राप्त होने के बाद ही मशीनों का प्रवेश करने के निर्देश दिए गए हैं।

प्रशासन से मशीनों को हटाने का निर्देश मिलने पर बीजीआर कंपनी के जीएम, अनिल रेड्डी ने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा दिए गए निर्देश के बाद ही खनन क्षेत्र से मशीनों को हटाया जा रहा है और लीज प्राप्त होने पर फिर से कंपनी मशीनें खनन क्षेत्र में ले जाएगी।

बीजीआर कंपनी के अधिकारी निर्देश के मिलने के बाद खनन क्षेत्र से मशीन हटाने गए थे। लेकिन ग्रामीण अपनी मांगों पर जोर देते हुए कंपनी के लोगों को मशीन निकालने से रोक दिया और उन्हें भगा दिया। ग्रामीणों ने ताड़ का पेड़ काटकर रास्ते में अवरोध बना दिया है। ग्रामीण इस बात को लेकर भी सचेत हो गए कि कंपनी के लोगों को किसी भी हाल में कोई मशीन नहीं ले जाने देंगे।

 

%d bloggers like this: