किशुन रजवार हत्याकांड के 19 अभियुक्तों को 10-10 साल की सजा

 

बोकारो। किशुन रजवार हत्याकांड का फैसला आ गया है। कुल 19 अभियुक्तों को 10-10 साल की सश्रम कारावास और एक-एक हजार रूपये जुर्माने की सजा सुनाई है। बोकारो के प्रधान एवं सत्र न्यायाधीश बबीता प्रसाद की अदालत ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद शुक्रवार को यह फैसला दिया।

अभियोजन पक्ष के वकील राकेश कुमार राय ने बताया कि बोकारो जिले के चंदनकियारी पुलिस ने इस मामले को 15 मार्च 2008 को अनिल रजवार की शिकायत पर कांड संख्या 34/2008 के रूप में दर्ज की थी।

किन-किन को मिली सजा

गणेश रजवार, सिल्लीप रजवार, दिलीप रजवार, भीम रजवार, प्राण रजवार, विरेन रजवार, पटल रजवार, रथू रजवार, नित्यानंद रजवार, अतुल रजवार, जगदीश रजवार, सिदाम रजवार, सुशील रजवार, वीरू रजवार, शांती रजवार, सुनील रजवार, सुभाष रजवार, विजय कुमार, शंकर धिवर।

क्या था मामला

2008 में मछली मारने को लेकर किशुन रजवार की हत्या हुई थी। दरअसल मृतक और उसका भाई अनिल रजवार पिछले कई सालों से चंदनकियारी के बैजूबांध तालाब में मछली पालन का काम करते थे।

आरोपी पक्ष मना करने के बावजूद तालाब में मछली मारने गया था। इन्होंने आरोपी पक्ष को मछली मारने से मना किया। बात तू-तू, मै-मै से शुरू हई। बाद में आरोपियों ने लाठी-डंडा, रॉड और तलवार से अनिल और किशुन रजवार को घायल कर दिया। हॉस्पीटल ले जाने के क्रम में ही किशुन रजवार की मौत हो गई थी।

%d bloggers like this: