नीमडीह सीएचसी के डॉक्टर घूस लेते हुए गिरफ्तार

टी भारती , जोहार खबर

 

सरायकेला, नीमडीह। निगरानी विभाग की टीम ने गुरुवार को नीमडीह के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) के प्रभारी चिकित्सक पदाधिकारी डॉक्टर ज्योति स्नेहलता मरांडी और प्रधान लिपिक अनिल कुमार मुखी को रंगेहाथ 40 हजार रुपये घूस लेते हुए गिरफ्तार किया। इनके खिलाफ नीमडीह स्वास्थ्य केंद्र की रिटायर्ड एएनएम सुप्रीति रानी मजूमदार ने जमशेदपुर के निगरानी कार्यालय में 23 अगस्त को लिखित शिकायत दर्ज की थी। इससे पहले भी प्रशासन  के पास  नीमडीह के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के बारे में कई शिकायतें दर्ज  करायी गयी थी.जिसके कारण निगरानी विभाग की नज़र पहले से ही नीमडीह के सीएचसी पर थी।

रिटायरमेंट के 1 साल बाद भी नहीं मिली पेंशन कि सुविधा

सुप्रीति रानी  ने बताया कि उन्हें रिटायर हुए एक साल से भी ज्यादा समय हो गया है पर अब तक उन्हें पेंशन की सुविधा उपलब्ध नहीं करायी  गयी है। उन्होंने कई बार पेंशन के लिए आवेदन किया पर उसपर कोई सुनवाई नहीं हुई। इस बात  का फायदा उठाते हुए डॉक्टर ज्योति स्नेहलता मरांडी और प्रधान लिपिक अनिल कुमार मुखी  ने पैसों की मांग की थी। यह मामला सिर्फ उनका ही नहीं कई ऐसे कर्मचारी हैं जिन्हें रिटायरमेंट के बाद पेंशन कि सुविधा देने के लिए घुस देना पड़ा है। शिकायत के बाद निगरानी टीम ने जांच-पड़ताल शुरू कर दी।

जांच के बाद बनायी गयी योजना

सुप्रीति रानी के शिकायत के  बाद निगरानी विभाग ने इस मामले की पूरी छानबीन करने के बाद  सुप्रीति रानी के द्वारा लगाया गए आरोप को सही पाया। इसके बाद निगरानी विभाग ने एक योजना बनाकर  गुरुवार को डॉक्टर ज्योति स्नेहलता मरांडी और प्रधान लिपिक अनिल कुमार रंगेहाथ  घूस लेते हुये गिरफ्तार कर लिया। निगरानी विभाग ने दोनो के खिलाफ करवाई शुरू कर दी गई है। स्नेहलता मरांडी दुमका के काठीकुंड गांव की रहने वाली है और अनिल कुमार मुखी आदित्यपुर के रहने वाले है।

%d bloggers like this: