महिला क्रिकेट विश्व कप में भारत की हार

 

23 जून 2017 दिन रविवार महिला क्रिकेट वर्ल्ड कप का फाइनल मैच, लॉर्ड्स का वही ऐतिहासिक मैदान, एक तरफ भारत तो दूसरी तरफ इंग्लैंड, लोगों की निगाहें भारतीय महिला क्रिकेट टीम पर थी। बार-बार 1983 का वर्ल्ड कप याद आ रहा था, जहाँ से भारतीय पुरुष क्रिकेट टीम का इतिहास एक अलग ही मुकाम पर पहुंच गया था।

उत्साह इतना कि हमारे देश के प्रधानमंत्री भी ढेर सारे ट्वीट कर के महिला टीम को बधाइयां दे रहे थे। भारत ने मैच के शरूआती पलों से ही दबाव बना कर रखा था। इंग्लैंड ने पहले बैटिंग करते हुए 228 रन ही बना पाई। इंग्लैंड की विकेटकीपर बल्लेबाज टेलर ने 45 रनों की पारी खेली जबकी मिडिल आर्डर बल्लेबाज शिवर ने 51 रनों की पारी खेली। भारत की तरफ से गेंदबाजी में झूलन गोस्वामी ने सबसे अधिक 3 विकेट अपने नाम की।

228 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम काफी अच्छी बल्लेबाजी कर रही थी। भारतीय टीम के शुरुआती 2 विकेट जल्दी गिरने के बाद पूनम पांडेय और सेमीफाइनल की शतकवीर हरमनप्रीत कौर ने भारतीय पारी को काफी अच्छे तरीके से संभाला। टीम ने 42.4 ओवर में 3 विकेट के नुकसान पर 191 रन बना चुकी थी।

जैसे ही पूनम यादव का विकेट गिरा मानो पूरी टीम लड़खड़ा सी गयी। टीम जीत से मात्र 9 रन पहले ऑल आउट हो गयी। भारत की ओर से पूनम पांडे ने सबसे अधिक 86 और हरमनप्रीत कौर ने 51 रन बनाए।

इंग्लैंड के तरफ से एन्या श्रुयसोल शानदार गेंदबाजी करते हुये भारत की जीत के आगे दीवार की तरह खड़ी हो गई, एन्या ने 6 विकेट झटक कर भारत को जीत से दूर कर दिया। एन्या श्रुयसोल की शानदार गेंदबाजी के कारण उन्हें “प्लेयर ऑफ द मैच” के खिताब से नवाजा गया।

%d bloggers like this: