गरीबी दूर करने के लिए लोगों को नियुक्त करेगी झारखंड सरकार

 

चाईबासा। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने रविवार को कहा कि एक महीने में 24 जिला समन्वयकों तथा 200 से अधिक प्रखंड समन्वयकों की नियुक्ति होगी। साथ ही “मुख्यमंत्री महिला उद्दमी बोर्ड” के तहत प्रत्येक गांव की एक महिला समन्वयक के रूप में काम करेंगी। इस तरह पूरे राज्य में 32 हजार महिला समन्वयक होगी।

मुख्यमंत्री रघुवर दास राज्य की गरीबी को लेकर खासे चिंतित हैं। चाईबासा जिले में आयोजित “सरकार आपके द्वार” कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि राज्य की गोद में पल रही गरीबी को मिटाना हमारा संकल्प है। गरीबों के जीवन में बदलाव लाना हमारी प्रतिज्ञा हैं।

जिला व प्रखंड समन्वयकों की होगी नियुक्ति

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस गरीब के लिए योजना बनें, वह उस तक पहुंचे, इस सोच के साथ “पंचायती राज स्वशासन परिषद” बनेगा। एक सप्ताह में जिले के 18 ब्लॉक एंव जिला में समन्वयक की बहाली होगी। एक महीने में 24 जिला समन्वयक तथा 200 से अधिक प्रखंड समन्वयक की नियुक्ति होगी। प्रखंड की योजना को प्रखंड समन्वयक तथा जिले की योजना को जिला समन्वयक के द्वारा कोऑर्डिनेट किया जाएगा।

नियुक्त होंगी महिला समन्वयकें

राज्य सरकार ने हर साल 1000 परिवार को एपीएल परिवार बनाने का लक्ष्य रखा है। गांव के 8वीं एंव 9वीं कक्षा में पढ़ रहे बच्चों को हुनरमंद बनाने के लिए राज्य सरकार ने कौशल विकास हेतु 700 करोड़ रूपये का बजट रखा है। उन्होंने कहा कि “मुख्यमंत्री महिला उद्दमी बोर्ड” के तहत प्रत्येक गांव की एक महिला समन्वयक के रूप में काम करेंगी। पूरे राज्य में 32 हजार महिला समन्वयक होगी।

मुर्गी पालन के लिए मिलेगा 4 लाख

उन्होंने कहा कि मुर्गी पालन हेतु 4 लाख तक की राशि दी जाएगी। उद्दमी बोर्ड के तहत लाह, तसर, हेंडीक्राफ्ट एंव लघु उघोग बोर्ड भी बनेगा। इस तरह गरीबी अपने आप खत्म हो जाएगी।

 

 

 

%d bloggers like this: