रांची पुलिस और प्रशासन ने चलाया ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों के खिलाफ अभियान

टी.भारती,जोहार खबर

सुप्रीम कोर्ट के गाईडलाइन के अनुसार जो लोग शराब पीकर वाहन चलाते हुए पकड़ा जाएंगे उनका ड्राइविंग लाइसेंस निलंबित कर दिया जाएगा। इसी आदेश का पालन करते हुए रांची पुलिस और जिला प्रशासन ने छापेमारी शुरू कर दी है। केवल 4 महीनों (अप्रैल से अगस्त) में पुलिस ने 206 जगहों पर छापामारी की। प्रभात खबर मे छपी खबर के मुताबिक ट्रैफिक पुलिस ने करीब 150 लोगों की लाइसेंस निलंबित कर दिया है.

ट्रैफिक सिगनल तोड़ने वाले 90 लोगों का लाइसेंस निलंबित

वाहन चालकों की जांच करने के लिए ‘ब्रेथ एनालाइजर’ मशीन का इस्तेमाल किया जा रहा है। सूत्रों के अनुसार ट्रैफिक नियमों को तोड़नेवाले ऐसे 90 लोगों के लाइसेंस को डीटीओ कार्यालय से निलंबित करने का आदेश दिया गया है।पुलिस का कहना है कि जिन लोगों का ड्राइविंग लाइसेंस निलंबित किया जा रहा है अगर वे फिर से किसी भी यातायात नियमों का उल्लंघन करते पकड़ाये तो उन लोगों का लाइसेंस रद्द कर दिया जाएगा।

किसी भी प्रकार के ट्रैफिक नियम तोड़ना पड़ सकता है भारी

रांची ट्रैफिक पुलिस उनलोगों को भी फाइन कर रही है,जो मोबाइल पर बात करते हुए वाहन चलते हैं.   यहाँ तक की मोबाइल पर बात करते हुए गाड़ी चलाने वालों पर भी सख्ती बरती जा रही हैं। एसपी यातायात संजय रंजन सिंह ने बताया कि यातायात पुलिस ने नशे में सिग्नल तोड़नेवाले, ओवरलोडेड वाहन चलानेवाले, मालवाहक गाड़ियों में यात्री ढोनेवाले लोगोंके साथ सख्ती बरती जाएगी. उन्होंने आगे कहा कि हम चाहते हैं कि कम से कम  सड़क दुर्घटना हो. राज्य में हर साल हजारों लोगों कि मृत्यु सड़क दुर्घटना में हो जाती है.

अवैध शराब बेचने वालों पर कड़ी नज़र 

सुप्रीम कोर्ट से सड़क सुरक्षा के लिए सख्त गाईडलाइन मिलने पर जिला प्रशासन संग पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेना शुरू कर दिया है। 1 अप्रैल से 21 अगस्त तक 206 जगहों पर छापामारी की और साथ ही अवैध रूप से शराब बेचने वालों पर भी नज़र  रखा जा रहा है. हाइ-वे पर बने होटलों और ढाबों पर निरंतर छापे मारे जा रहे हैं. उत्पाद विभाग ने एक अप्रैल से 21 अगस्त तक 206 छापे मारे, जिसमें 4 लाख, 42 हजार, 200 रुपये जुर्माना वसूला गया.

%d bloggers like this: